Bollywood News Entertainment Uncategorized

शेफ मूवी रिव्यू,: क्यों देखना चाहिए इस फिल्म को

कलाकार -: सैफ अली खान, स्ववार कांबले, पद्मप्रिया जानकीरामन, चंदन रॉय सान्याल, मिलिंद सोमन, दिनेश पी नायर, सोबिता धुलिपला, राम गोपाल बजाज

निदेशक-: राजा कृष्ण मेनोनी की समीक्षा

अवधि- 2 घंटा 13 मिनट

क्या अच्छा है-: एक ऐसी कहानी जिसे हमने पहले देखा है, के लिए दीदी स्पर्श दिया गया है, सैफ अली खान साबित कर रहे हैं कि वह जॉन फार्वौ और रघु दीक्षित की ध्वनिक उपस्थिति से बेहतर कर सकते हैं।




क्या बुरा है: कुछ महत्वपूर्ण हिस्सों को संपादित किया गया जो मूल में अत्यधिक प्रभावशाली थे, यह आपको हर गुजरते दृश्य (पून इरादा) के साथ भूखा करता है

सैफ की कहानी: रोशन कालरा, न्यूयॉर्क के एक प्रसिद्ध ‘आई-मी-मैथ्यू’ शेफ में उनके साथ जुड़ी लत्ता की कहानी से है। वह एक तलाकशुदा है जिसका बच्चा अरमान को कोच्चि में अपनी मां के साथ रह रहा है। दुर्भाग्यपूर्ण घटनाएं रोशन के लिए भाग्यशाली बन जाती हैं,और वह अपने बेटे अरमान और अलग हो चुकी पत्नी राधा मेनन के साथ वक्त बिताने के लिए कोच्चि आ जाते हैं। यह ट्रिप उनके लिए काफी फायदेमंद साबित होता है, क्योंकि इस दौरान वह अपनी बिखरी हुई फैमिली को समेट पाने के लिए एक अच्छी कोशिश करते हैं। उसे उसकी अपनी खूबियों और ताकत का एहसास दिलाने और अपने मकसद में कामयाब हो जाने के लिए उनकी पत्नी उन्हें सलाह देती है कि उसे एक नई शुरूआत की जा सके और इसी तरह वो अपना एक फूड ट्रक बना सके है

शेफ फिल्म रिव्यू-: साल 2014 में हॉलिवुड निर्देशक जॉन फैवरो ने शेफ से नाम से जो फिल्म बनाई थी और उसी फिल्म से प्रेरणा लेते हुए बॉलिवुड निर्देशक राजा कृष्णा मेनन ने सैफ अली खान के साथ बनायी है फिल्म ‘शेफ’ जो दर्शकों को जिंदगी की हकीकत से रूबरू कराने के साथ ही उनके दिल को छू लेती है। शेफ दो स्तर पर काम करती है। पहले स्तर पर फिल्म आपको पाक कला और खाने से जुड़े एक ऐसे सफर पर ले जाती है जहां फिल्म के नायक की खाने बनाने की कला देखकर आपका भी मन करेगा की मई कुछ बना लू इसमें एक से एक मजेदार खाने को बनाने का मिलेंगे जिसे देखते ही लोगो के मुँह में पानी आ जायेगा

फिल्म की कहानी सैफ अली खान के कंधों पर टिकी है। चाहे वह एक केयरिंग पिता के रोल में हों या फिर हज्बंड के रोल में जो रिश्तों की बेहतरी की कोशिश करते हुए आपको खूब जंचेंगे। और पद्मप्रिया काफी आकर्षक दिख रही हैं। इतनी कम उम्र में स्वर अपनी पहचान बनाने में कामयाब नज़र आ रहे। यहां कुछ मजेदार मुकाबला भी दिखेंगे, लेकिन रितेश शाह के डायलॉग्ज़ स्मार्ट और हाजिर जवाब हैं। हालांकि, फिल्म थोड़ी धीमी नज़र आ रही और यह आपको ठीक वैसा ही लगेगा जैसे आप भूखे पेट लंच टेबल पर बैठे हों और भूख खत्म होने के बाद आपका ऑर्डर आपके सामने आया हो।

यह भी पढ़ें:

हनी सिंह क्यों नहीं गाते है अब गाने, वजह कर देगी आपको हैरान

रावण के दस सिर क्यों थे? जानिये रावण से जुड़े कुछ रोचक बाते

100 साल की उम्र में PHD करने जा रहे है ये व्यक्ति

Happy Diwali Status in Hindi & English | Diwali Quotes

——————————————————————————————————————————————————
हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Zeephy News के Facebook पेज को लाइक करें


————————————————————————————————————————————————–




Leave a Reply